चीन का ये बैंक भारत को देगा 5700 करोड़ रुपये का लोन, जानिए क्यों?

बीजिंग समर्थित एशियन इंफ्रास्ट्रक्चर इन्वेस्टमेंट बैंक (AIIB-Asian Infrastructure Investment Bank) ने भारत को 5700 करोड़ रुपये के लोन को मंजूरी दी है.

नई दिल्ली. चीन-भारत में जारी तनाव के बीच एक बड़ी खबर आई है. बीजिंग समर्थित एशियन इंफ्रास्ट्रक्चर इन्वेस्टमेंट बैंक (AIIB-Asian Infrastructure Investment Bank) ने भारत के लिए  75 करोड़ डॉलर (करीब 5700 करोड़ रुपये) का लोन मंजूर किया है. आपको बता दें कि भारत और चीन के बीच सीमा विवाद (India-China Rift) ने गंभीर रूप ले लिया है. सोमवार रात गलवान घाटी (Galvan Valley) में चीनी सैनिकों ने भारतीय सैनिकों (Indian Soldiers) पर बेहद बर्बर हमले (Savage Attack) किए. इस हमले के बाद इलाज करा रहे भारतीय सैनिकों द्वारा दी गई सूचना के बारे में जानकारी रखने वाले एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी के मुताबिक चीनी सैनिकों (Chinese Soldiers) ने कंटीले तार लगे लोहे के रॉड से हमला किया. इस हमले में 16 बिहार रेजीमेंट के जवानों की हत्या की गई.

क्यों चीन के बैंक ने दिया लोन?-  AIIB ने बुधवार को कहा है कि उसने भारत को कोरोना वायरस की लड़ाई में कमजोर तबके को सहायता देने के लिए लोन मंजूर किया है. एशियन डेवलपमेंट बैंक द्वारा को-फाइनेंस्ड इस प्रोजेक्ट का लक्ष्य कारोबारियों को आर्थिक सहायता देना, सामाजिक सुरक्षा नेटवर्क को मजबूती देना और हेल्थकेयर में सुधार करना है.

इसके पहले मई में AIIB ने भारत में कोरोना महामारी से निपटने में सहायता के लिए 50 करोड़ डॉलर का लोन मंजूर किया था. यह दोनों ही लोन AIIB के 10 अरब डॉलर की उस फंडिंग फेसिलिटी का हिस्सा हैं जिसकी घोषणा AIIB ने कोरोना महामारी से लड़ने के लिए पब्लिक और प्राइवेट सेक्टर को देने के लिए की है.

बता दें कि भारत में कोरोना वायरस से होने वाली मौतों में रिकॉर्ड इजाफा हुआ है. पिछले 24 घंटों के दौरान Covid-19 की वजह से 2000 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई है.

इसमें सबसे बड़ा हिस्सा महाराष्ट्र और दिल्ली का है. दरअसल कोरोना वायरस से हुई इन मौतों को पहले दर्ज नहीं किया गया था. देश में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले बढ़कर 3.50 लाख पहुंच गए हैं.

पिछले 24 घंटों के दौरान 10,914 नए केस सामने आए हैं. 13 जून को देश में संक्रमितों की संख्या 3 लाख थी. पिछले एक हफ्ते से देश में हर दिन 10,000 से ज्यादा नए मामले सामने आ रहे हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *